बहुत उड़ा चुके

बहुत उड़ा चुके शांति के कबूतर
आओ अब कुछ हथगोले बनाए…
जिस भाषा मे पड़ोसी समझे
उसे उसी की भाषा मे समझाए…